Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9893228727}

सूर्य ग्रहण का सूतक बुधवार की रात से शुरू होगा

दमोह : पाैस कृष्ण पक्ष अमावस्या दिन गुरुवार को मूल नक्षत्र धनु राशि पर खंडग्रास सूर्य ग्रहण पड़ेगा. यह ग्रहण भारत के अतिरिक्त अफ्रीका एशिया ऑस्ट्रेलिया तथा सोलो मान द्वीप समूह में दिखाई देगा. श्रीदेव जागेश्वर नाथ मंदिर ट्रस्ट के प्रबंधक पंडित रामकृपाल पाठक ने बताया कि श्री देव जागेश्वर नाथ जी की सायं कालीन आरती नित्य समय अनुसार शाम 7:00 हाेगी एवं व्यारी सेवा 8:16 के पहले हाे जाएगी. पट बंद रात्रि 8:30 पर होंगे. प्रातः कालीन 4:30 पर पुनः आरती सेवा होगी एवं दर्शनार्थ पट खुले रहेंगे. मूर्ति स्पर्श जल चढ़ाने की सेवा ग्रहण के मोक्ष के उपरांत प्रारंभ होगी. दिन मे 11 बजकर 30 मिनिट पर पुन: आरती हाेगी और दोपहर 1:00 बजकर 30 मिनट पर भोग सेवा होगी. वही दमोह नगर के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य एवं श्रीमद् भागवत प्रवक्ता आचार्य पंडित रवि शास्त्री ने बताया कि इस ग्रहण का सूतक चार पहर पहले से प्रारंभ हो जाएगा.आज बुधवार की रात्रि 8 बजकर 16 पर लगेगा. श्री शास्त्री ने बताया कि खंडग्रास सूर्यग्रहण का स्पर्श गुरुवार को प्रातः 5 बजकर 16 पर होगा. वही मध्यकाल दिन में 9:00 बजकर 35 मिनट पर और मोक्ष दिन में 11:00 बजकर 20 मिनट पर होगा. ग्रहण काल का संपूर्ण समय 3 घंटा 4 मिनट का रहेगा. सूतक के समय यानी बुधवार रात्रि 8:16 से समस्त मंदिरों के पट बंद हो जाएंगे. सूतक काल के पहले ही देव आरती भोग सेवा संपन्न हो जाएगी. उन्होंने बताया कि सूतक काल से लेकर के ग्रहण के मोक्ष काल तक समस्त मंदिरों के पट बंद रहेंगे तथा शास्त्रीय मतानुसार मूर्ति स्पर्श शयन एवं भोजन नहीं करना चाहिए. बालक वृद्ध एवं रोगियों को एक प्रहर पहले अर्थात प्रातः 5बजकर 16 से ही मानना चाहिए. इस ग्रहण का फल मूल नक्षत्र धनु राशि वालों के लिए विशेष अनिष्ट कारक रहेगा. वृष कन्या वृश्चिक तथा मकर राशि वालों को अशुभ मेष मिथुन सिंह राशि वालों के लिए मध्यम तथा कर्क तुला कुंभ व मीन राशि वालों को शुभ कारक रहेगा. ग्रहण काल में देवताओं का कष्ट निवारण के लिए हरि नाम संकीर्तन एवं भोजन की शुद्धता बनाए रखने के लिए खाद्य पदार्थों में तुलसी पत्र डालना चाहिए. ग्रहण के उपरांत स्नान कर देव दर्शन पूजन तथा दान का विशेष महत्व बताया गया है. जिन राशि के लोगों को ग्रहण अशुभ है. उन राशि के जातकों को ग्रहण नहीं देखना चाहिए. साथ ही अशुभ फल से बचने के लिए दान एवं पूजन आवश्यक रूप से करना चाहिए.

"

Our Visitor

207396
Users Today : 172
Who's Online : 7
"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *