Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9893228727}

कंप्यूटर बाबा का दमोह में बयान, कमलनाथ सरकार में माफियाओं में मचा है घमासान !

दमोह : कमलनाथ सरकार में नदियों के संरक्षण में मुख्य भूमिका का निर्वहन करने वाले कंप्यूटर बाबा अधिकारियों से बैठक करने के लिए दमोह पहुंचे. सर्किट हाउस पर जहां कांग्रेस नेताओं ने उनका स्वागत किया तो वहीं अधिकारियों को कंप्यूटर बाबा ने विभिन्न निर्देश भी दिए.

दमोह पहुंचे कंप्यूटर बाबा ने कहा कि वह नदियों के संरक्षण के लिए लगातार पूरे प्रदेश भर में भ्रमण कर रहे हैं, और नदियों को साफ स्वच्छ करना तथा उन्हें बचाना प्रमुख काम है. यह कमलनाथ की सरकार है जहां पर भूमाफिया खनिज माफिया और गुंडाराज नहीं चलेगा. वे लगातार नदियों के संरक्षण के लिए काम कर रहे हैं, और उत्खनन को लेकर कार्यवाही भी कर रहे हैं, बीती सरकार ने इस सिस्टम को पूरी तरह से खराब कर दिया है. जिसे सुधारने में वक्त लगेगा. लेकिन मुख्यमंत्री के निर्देशन में प्रदेश में नदियों के संरक्षण को प्राथमिकता के साथ किया जाएगा.

चाचौड़ा विधायक दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह के द्वारा लगातार कंप्यूटर बाबा पर हमला किए जाने के मामले में उनका कहना था कि लक्ष्मण सिंह को कंप्यूटर बाबा के बारे में दिग्विजय सिंह से पूछना चाहिए. वे उन पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते. दरअसल लक्ष्मण सिंह ने बाबा को फर्जी बाबा करार दिया था. साथ ही कहा था कि नदियों के संरक्षण में वैज्ञानिकों की आवश्यकता है ना कि बाबाओं की. वही चाचौड़ा विधायक ने कंप्यूटर बाबा पर यह भी आरोप लगाया था कि वे जहां भी जा रहे हैं. वहां अवैध वसूली कर रहे हैं. इन बयानों के सवालों के जवाब में बाबा ने सवालों को टालते हुए दिग्विजय सिंह से कंप्यूटर बाबा के बारे में पूछे जाने की बात कही.

कंप्यूटर बाबा ने कहा कि शिवराज सरकार में उनके भाइयों ने नदियों को नुकसान पहुंचाया है. पूर्व मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र बुधनी में ही अवैध उत्खनन चरम पर था. उसे भी खत्म करने का काम कमलनाथ सरकार ने किया है. वह लगातार आकस्मिक निरीक्षण कर माफियाओं पर शिकंजा कस रहे हैं.

कंप्यूटर बाबा ने कहा कि कमलनाथ दिग्विजय सिंह और सिंधिया अलग अलग नहीं एक ही है. तीनों मिलकर ही सरकार चला रहे हैं. 5 साल तक यह सरकार चलेगी तो अगली पंचवर्षीय में भी कांग्रेस की सरकार बनेगी. सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि है संगठन का काम है और वह साधु सन्यासी हैं संगठन के विषय में कुछ नहीं बोलते. उन्होंने अपने संबोधन में रेत माफियाओं को खबरदार करते हुए उत्खनन को बंद करने की बात कही.

"

Our Visitor

207214
Users Today : 972
Who's Online : 0
"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *