Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9425081918}

जीवन से खिलवाड़ ना करने लगे यह पानी, पढ़िए यहां पर पूरी कहानी!

कही घातक सबित न हो नगर में सप्‍लाई होने वाला पानी, असंख्‍य सूक्ष्‍म जीवाणु पनप गये नदी के पानी में, नदी में पानी का भराव हुआ……..


संजय जैन हटा / दमोह : नगर में वर्तमान में जो जल सप्‍लाई हो रहा है, उसका तत्‍काल परीक्षण होना चाहिए। साथ ही नगर वासियों को स्‍पष्‍ट जानकारी प्रदान की जाये कि यह पानी पीने योग्‍य है कि नहीं, कही यह पानी घातक साबित न हो जाये इसके लिए प्रशासन को तत्‍काल सकारात्‍मक कदम उठाने की आवश्‍यकता है।


कैसे घातक है यह पानी


सागर जिला में प्री मानसून की वारिश से नदी का जल स्‍तर बढ गया है। करीब 125 किलोमीटर से बहता हुआ आया पानी हटा के पास सक्‍सूमा बिजली उत्‍पादन वाले डेम पर ब्रेक हो रहा है। इस पानी का भराव सक्‍सूमा से लेकर हारट पुल तक करीब 20 किलोमीटर क्षेत्र में हो रहा है। यह पानी सारी गंदगी को समेटकर आया हुआ है। इसके साथ ही जहां से नगर के दोनों फिल्‍टर प्‍लांट में पानी सप्‍लाई होता है, वही पर नगर के गंदे नाले का संगम स्थल है। यहां पर सामान्‍य रूप से बिना किसी यंत्र के माध्‍यम से देखा जा सकता है कि असंख्‍य जीवाणु पनप रहे है। पानी की गंदगी भी स्‍पष्‍ट देखी जा सकती है।

नगर में दो वाटर टेंक व फिल्‍टर प्‍लांट से पानी सप्‍लाई किया जाता है। लेकिन दुर्भाग्‍य यह है कि यहां जल सप्‍लाई का कार्य देखने कोई स्‍थाई उपयंत्री नहीं है। सूत्र बताते है कि अभी तीन दिन पहले पटेरा नगर पंचायत के उपयंत्री को यह प्रभार सौंपा जो ज्‍वाइन तो कर लिया लेकिन कार्यक्षेत्र भी नहीं देखा है। विगत कई वर्षो से जल सप्‍लाई लाइनमेन के द्वारा ही इसका कार्य देखा जा रहा है।

वर्तमान में कार्य देख रहे राम विशाल मिश्रा ने बताया कि गर्मी में तो साफ एवं स्‍वच्‍छ पानी सप्‍लाई हुआ है, जबसे नदी का जलस्‍तर बढा है तब से फिल्‍टर में फिटकरी व ब्‍लींचिंग की मात्रा बढा दी गई है, किस मात्रा में क्‍या डालना उसकी जानकारी उन्‍हे स्‍पष्‍ट नहीं है।

प्रदूषित पानी के कारण कई संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। इससे पेट की बीमारियों के अलावा चर्म रोग होने की संभावना रहती है। प्रदूषित पानी जान लेवा भी हो सकता है।कोई अनहोनी हो इससे पहले जल सप्‍लाई होने वाले पानी का परीक्षण कराया जाये। यह पानी क्‍या केवल खर्च के लिए ही उपयोग होना चाहिए। लोगों का क्‍या यह पानी पीने में उपयोग करना चाहिए कि नहीं, इस संबंध में मुनादी हो जाये तो बेहतर होगा।

खबर लगाने का लक्ष्य यही है कि इस ओर स्थानीय प्रशासन और जिला प्रशासन ध्यान दें। जिससे इस पानी से होने वाली किसी भी तरह की बीमारियों से हटा क्षेत्र के लोगों को पहले ही बचाया जा सके।

Our Visitor

9 5 9 3 4 9
Users Today : 529
Total Users : 959349
Who's Online : 7

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: