Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9893228727}

मुख्यमंत्री की उपस्थिति में हुआ अपशिष्ट प्रबंधन एवं निष्पादन के लिए एम.ओ.यू.!

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में निवास पर अपशिष्ट प्रबंधन एवं निष्पादन किए जाने के लिए एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किए गए। नगर निगम भोपाल और एनटीपीसी तथा भोपाल आरएनजी प्रायवेट लिमिटेड के मध्य 200 टन प्रतिदिन गीले कचरे से बायो सीएनजी प्लांट एवं 400 टन प्रतिदिन सूखे कचरे से टॉरीफाईड चारकोल प्लांट की स्थापना के लिए एम.ओ.यू. हुआ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने हस्ताक्षरित एम.ओ.यू. संबंधितों को आदान-प्रदान कर बधाई दी। एम.ओ.यू. के पूर्व स्वच्छ भारत मिशन से संबंधित वीडियो फिल्म भी दिखाई गई।

200 टन प्रतिदिन गीले कचरे से बायो सीएनजी प्लांट

वर्तमान में भोपाल शहर से लगभग 800 टन कचरा प्रतिदिन एकत्र होता है। इसके निष्पादन के लिए नगर निगम भोपाल द्वारा प्रति मीट्रिक टन 333 रूपए का व्यय किया जाता है। यह प्लांट लगने से भोपाल आरएनजी प्रायवेट लिमिटेड द्वारा भोपाल नगर निगम को 83 लाख की राशि प्रतिवर्ष रॉयल्टी के रूप में 20 वर्ष तक दी जाएगी एवं मार्केट रेट से 5 रूपए कम दर पर बायो सीएनजी प्रदान की जाएगी। प्लांट से उत्पन्न होने वाली बायो सीएनजी का उपयोग सिटी बसों में किया जाएगा। प्लांट की स्थापना पर 40 करोड़ का व्यय अनुमानित है, जो पूर्ण रूप से एजेंसी द्वारा स्वयं वहन किया जाएगा। एजेंसी द्वारा नगर निगम भोपाल से कचरा निष्पादन के लिए कोई भी प्रोसेसिंग फीस नहीं ली जाएगी। इस अनुसार प्लांट की स्थापना के पश्चात नगर निगम भोपाल को ठोस अपशिष्ट निष्पादन पर प्रतिवर्ष व्यय होने वाली राशि 2 करोड़ 43 लाख 9 हजार रूपए की बचत होगी।

400 टन प्रतिदिन सूखे कचरे से टॉरीफाईड चारकोल प्लांट

400 टन प्रतिदिन सूखे कचरे से टॉरीफाईड चारकोल प्लांट का निर्माण बिल्ट ऑन ऑपरेट मॉडल पर आधारित होगा। प्लांट की स्थापना एवं संचालन-संधारण कार्य एनटीपीसी द्वारा ही 25 वर्ष तक किया जाना है। आदमपुर छावनी में 15 एकड़ भूमि के क्षेत्रफल में इसकी स्थापना पर 80 करोड़ रूपए व्यय होना अनुमानित है, जो पूर्ण रूप से एनटीपीसी द्वारा वहन किया जाएगा। उत्पादित टॉरीफाइड चारकोल का उपयोग एनटीपीसी के विद्युत संयंत्रों में किया जाएगा। प्लांट से नगर निगम भोपाल को ठोस अपशिष्ट निष्पादन पर प्रतिवर्ष व्यय होने वाली राशि 4 करोड़ 86 लाख 18 हजार रूपए की बचत होगी।

इस दौरान प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास श्री मनीष सिंह, आयुक्त श्री निकुंज श्रीवास्तव तथा नगर निगम आयुक्त श्री के.वी.एस. चौधरी उपस्थित थे।

Our Visitor

9 3 3 7 7 3
Users Today : 16
Total Users : 933773
Who's Online : 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: