Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9425081918}

43 डिग्री पारा, सिद्धार्थ का जन संवाद, किसका सिंहासन डोले, ग्रामीणों में उल्लास!

दमोह : भारतीय जनता पार्टी से निलंबित युवा नेता सिद्धार्थ मलैया की जन संवाद यात्रा का दूसरा चरण भी समाप्त हो गया। 43 डिग्री के आसपास का भीषण तापमान और ऐसे तापमान में पदयात्रा करना किसी भी व्यक्ति के लिए बड़ा ही कठिन कार्य होता है। लेकिन मलैया परिवार के सिद्धार्थ मलैया ने इसी तपती दोपहर में 43 डिग्री के आसपास के तापमान के बीच सुबह से जन संवाद यात्रा की शुरुआत की और देर रात समापन। एक बार फिर 4 दिन चली यात्रा ग्रामीणों के उत्साह और उल्लास के बीच समाप्त हो गई। दूसरे चरण की यात्रा का समापन होने के बाद राजनीतिक हलकों में हड़कंप है। तो सिंहासन पर विराजमान लोगों के सिंहासन भी डोल रहे हैं।

तस्वीरें बयां कर रही यात्रा की कहानी

करीब 1 साल पहले दमोह विधानसभा उपचुनाव के बाद लगे आरोपों के चलते सिद्धार्थ मलैया सहित उनकी टीम को भाजपा से निलंबित कर दिया गया। वही उसी 1 साल के बाद उसी भीषण गर्मी के दौर में सिद्धार्थ मलैया ने दमोह विधानसभा क्षेत्र में अपनी जमीन तलाशना शुरू कर दिया। पत्रकार वार्ता से शुरू हुई इस यात्रा की कहानी अब दूसरे चरण के समापन तक पहुंच गई है। पहली यात्रा का समापन भी तस्वीरों के मुताबिक सफलता का आंकड़ा लेकर आया, तो दूसरा चरण भी इसी तरह से ग्रामीणों के उल्लास के बीच समाप्त हुआ। दमोह विधानसभा क्षेत्र में शुरू हुई यह जनसंवाद यात्रा मलैया परिवार के और राजनीतिक सफर के लिए मील का पत्थर है, क्योंकि बीते 35 वर्षों मैं उनके पिता और दमोह के भाजपा के कद्दावर नेता जयंत मलैया ने जो जमीन बनाई है उस जमीन को यथावत रखने के लिए सिद्धार्थ मलैया ने जनसंवाद यात्रा की शुरुआत की है और यह जनसंवाद यात्रा उनके जनसमर्थन के लिए भी कारगर साबित हुई है। हालांकि इस जन संवाद यात्रा का प्रतिफल उनके चुनाव लड़ने के दौरान मतदान के रूप में परिवर्तित होता है, तो वास्तविक तौर पर इस मेहनत का फल कहा जाएगा। लेकिन तस्वीरें जो कह रही हैं, उसमें ग्रामीण लोग जो दमोह विधानसभा के हैं वह उनके समर्थन में नजर आ रहे हैं।

चुनाव लड़ेंगे सिद्धार्थ मलैया ?

उपचुनाव के दौरान सिद्धार्थ मलैया ने अपनी दावेदारी पेश की थी। उस वक्त उन्हें रुकने के लिए कहा गया था। उस समय कयास लगाए जा रहे थे कि वे किसी अन्य दल या निर्दलीय रूप से चुनाव के मैदान में होंगे। लेकिन उन्होंने अपने पिता की बात को मानते हुए किसी भी तरह के उस वक्त के चुनाव में शामिल नहीं होने की घोषणा की थी। लेकिन सूत्रों की माने तो आगामी विधानसभा चुनाव में वह मैदान में पूरी शक्ति के साथ उतरने की तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में जब वे भाजपा से निलंबित है, तो किस दल से भी चुनाव लड़ेंगे। यह कह पाना मुश्किल है लेकिन माना जा रहा है कि वह किसी बड़े दल या फिर निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर भी चुनाव मैदान में हो सकते हैं। या कोई नया रास्ता चुन सकते हैं। लेकिन जन संवाद यात्रा का आधार तो दमोह विधानसभा में अपनी जमीन को बचाए रखना माना जा रहा है।

क्या बोले थे सिद्धार्थ मलैया

जनसंवाद यात्रा के पहले चरण के पूर्व पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने संकेत दिए थे कि वह निश्चित ही आगामी विधानसभा चुनाव मैं मैदान में उतरने के लिए ही जनसंवाद यात्रा कर रहे हैं, ऐसे में उन्होंने सतधरू बांध परियोजना के तहत जिले में पहुंचने वाले पेयजल को सुरक्षित और संरक्षित करने का मुद्दा बनाया, तो प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ सहित अन्य योजनाओं के लाभ की जमीनी हकीकत भी जाने तथा इस मामले पर स्वयं भी सहयोग की बात कही। ग्रामीणों ने अपनी समस्याएं सुनाई तो सिद्धार्थ मलैया ने समस्याओं के समाधान के लिए हमेशा उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ चलने का आश्वासन दिया। ऐसे में ग्रामीण जनता के बीच सिद्धार्थ मलैया की एक नई छवि जनसंवाद यात्रा के माध्यम से बनती नजर आई।

Our Visitor

9 6 6 9 7 1
Users Today : 3
Total Users : 966971
Who's Online : 0

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: