Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9893228727}

राष्ट्रीय शिक्षा नीति विद्यार्थी की प्रकृति और प्रवृत्ति के अनुसार गढ़ने का अवसर – राज्यपाल

भोपाल : राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति विद्यार्थी की प्रकृति और प्रवृत्ति के अनुसार गढ़ने का अवसर है. शिक्षकों को शिक्षण काल में छात्र-छात्राओं में उत्साह, अनुशासन और अनुभव के गुणों का समावेश कर, उनको आत्म निर्भर बनाने की चुनौती को स्वीकारना होगा. यह बात राज्यपाल ने आज आई.ई.एस. विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित वेबिनार को संबोधित करते हुए कही. राष्ट्रीय शिक्षा नीति अवसर एवं चुनौतियां विषय पर आयोजित वेबिनार के मुख्यवक्ता चेयरमैन नेशनल एक्रेडेशन बोर्ड प्रो.के.के. अग्रवाल थे.

राज्यपाल श्रीमती पटेल ने कहा कि देश के उज्ज्वल भविष्य के सपनों को साकार करने की दिशा में राष्ट्रीय शिक्षा नीति एक बड़ा कदम है. नीति नवाचारी और दूरगामी उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए शिक्षा व्यवस्था में बड़े परिवर्तनों के लिए आऊट ऑफ बॉक्स सोच के साथ कार्य करने की कोशिश है, जिसमें संस्कृति, जीवन मूल्यों के संरक्षण और जड़ों से जुड़े रहने की मजबूत संकल्प शक्ति भी है. इसमें शिक्षा व्यवस्था और शिक्षा प्रणाली की गुणवत्ता की उत्कृष्टता पर विशेष बल दिया गया है. इसे लागू करने के लिए उस की अवधारणा, प्रावधानों और अपेक्षित परिणामों पर व्यापक विचार विमर्श जरुरी है. नीति में दीर्घकालिक दिक्कतों को दूर करने के साथ ही भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के प्रयास किए गए हैं. देश के 200 शीर्ष संस्थानों को पूर्ण स्वायत्तता, प्रतिस्पर्धी और समकक्ष समीक्षा वाले अनुदान प्रस्तावों को वित्तीय सहायता देने के लिए स्वतंत्र राष्ट्रीय शोध फंड, उच्च शिक्षा निगम को बाजार से दीर्घावधि के ऋण जुटाने की अनुमति और विदेशी विश्वविद्यालयों को भारत में स्थायी केंद्र स्थापित करने की इजाजत देने जैसी बहुआयामी पहल हैं.

श्रीमती पटेल ने कहा कि शिक्षा नीति के अमलीकरण में विद्यार्थियों की अपेक्षाओं, जरूरतों और देश के गरीब, वंचित, पिछड़े वर्ग और आदिवासी क्षेत्रों में आधुनिक टेक्नोलॉजी की पंहुच, सूचना और ज्ञान के प्रसार की स्थिति को समझना होगा. समय की मांग है कि विश्वविद्यालय इनफार्मेशन सेण्टर से ज्ञान के ट्रांसफॉर्मेशन-सेण्टर बने. शिक्षक ज्ञान के ट्रांसफार्मर बने. विद्यार्थियों में श्रम की गरिमा, राष्ट्र भक्ति, समाजसेवा, नैतिक-पारिवारिक मूल्यों, पर्यावरण संरक्षण, स्वच्छता और स्वास्थ्य के संस्कार प्रवाहित करें. उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक तरीके, तेजी से बदलती जरूरतों और समय के हिसाब से विद्यार्थी पढ़ेंगे तभी वो राष्ट्र निर्माण में सकारात्मक भूमिका निभा पाएँगे. उन्होंने कहा कि हमारे कार्यबल में केवल 5 प्रतिशत ही व्यवसायिक शिक्षा प्राप्त हैं. आगामी 5 वर्षों में इसे 50 प्रतिशत करने के लिए व्यवसायिक और तकनीकी शिक्षा को नये मायने देने होगें. भारतीय परंपरा में विकसित ‘लोक-विद्या’ को उच्च शिक्षण संस्थानों द्वारा व्यावसायिक शिक्षा से जोड़ना होगा. लोक विद्या को मुख्यधारा की शिक्षा का अंग बनाया जाए. उसे बराबर का सम्मान मिलें, ताकि बच्चों और युवाओं में कौशल वृद्धि के साथ-साथ श्रम की गरिमा के प्रति सम्मान का भाव भी पैदा हो. शैक्षणिक संस्थानों का वातावरण, ऐसा होना चाहिए, जहां विद्यार्थी को जो चाहिए, वह उन्हें मिल जायें. दुनिया भर की जानकारी, हमारी संस्कृति, परंपरा, जीवन मूल्यों के ज्ञान और संस्कार के साथ विद्यार्थी शिक्षा केन्द्र से बाहर जाए.

राज्यपाल ने कहा कि उच्चतर शिक्षा प्रणाली में ऐसी व्यवस्था को बढ़ाना होगा, जिसमें होनहार लोगों का चयन हो, उनकी आजीविका, मान-मर्यादा और स्वायत्तता सुनिश्चित रहे। शिक्षण पाठ्यक्रम ऐसा हो जो विद्यार्थियों में अन्वेषण, समाधान, तार्किकता और रचनात्मकता विकसित करे. छात्र-छात्राओं में आवश्यकता के अनुरूप दक्षता और नई सोच पैदा करें. उन्होंने कहा कि कोविड-पश्चात विश्व में अनुसरण की बजाए, हमें मौजूदा परिपाटियों से आगे बढ़ने के प्रयास करने चाहिए. हमें अपने कौशल एवं अपनी क्षमताओं का सर्वश्रेष्ठ उपयोग कर, भारत को विश्व गुरू के रूप में प्रतिष्ठित करने के लिए प्रतिबद्ध होना होगा. उन्होंने सभी प्रतिभागियों से कहा कि नीति के मूलभूत परिवर्तनों को कैसे उपयोगी बनाना है. इस पर चिंतन करें. मुड़कर देखें कि क्या दिक्कतें और समस्याएं आईं. उनसे सबक लेकर भविष्य के पथ का निर्देशन करें. दूरदर्शी दृष्टिकोण के साथ समयबद्ध लक्ष्य निर्धारित करें. उन्होंने कहा कि युवा अपनी रुचि, प्रवृत्ति के हिसाब से पढ़ाई कर बिना दबाव अपनी क्षमता अनुसार कोर्स और डिग्री प्राप्त कर सके. इसके लिए शिक्षकों को तैयार किया जाना होगा. शिक्षक प्रशिक्षण के नए पाठ्यक्रम का निर्माण खुली सोच और नेक नीयत के साथ किया जाना जरुरी है. शिक्षकों के सहयोग के लिए ई-लर्निग द्वारा शिक्षा की पहुँच, उसकी इक्विटी और गुणवत्ता में सुधार के कार्य व्यापक पैमाने पर किये जायें. शिक्षा क्षेत्र में प्रोद्यौगिकी के उपयोग के विस्तार में निजी विश्वविद्यालयों को पहल करनी होगी.

मुख्य वक्ता प्रो.के.के. अग्रवाल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति में प्रारम्भिक से शीर्ष स्तर की शिक्षा की पहल है. सफल क्रियान्वयन के लिए बड़ी सोच के साथ प्रतिबद्ध प्रयास जरुरी है. उन्होंने कहा कि शिक्षा की एकाकी व्यवस्था से बाहर निकलना होगा, तभी समाज को मूलभूत समस्याओं के समाधान दिए जा सकते हैं. बहुआयामी सोच के साथ प्रयास किये जाना जरुरी है. ऐसी व्यवस्था करनी होगी कि एक विषय में गहराई से ज्ञान के साथ अन्य विषयों की भी जानकारी हो. ज्ञान और कौशल को समायोजित करते हुए बच्चों के ज्ञान को उजागर करना होगा. आभार प्रदर्शन प्रो.-चांसलर आई.ई.एस. विश्वविद्यालय डॉ. सुनीता सिंह ने किया.

POLESTAR XPLORE 55 ltrs with Rain Cover Rucksack Hiking Backpack

A sporty versatile Trekking Backpack from POLESTAR, made of Polyester; Fabric. It has a top opening compartment & 2 for quick & easy access to essentials while the mesh padding on the back panel will feel comfortable, even on a hot day.

"

Our Visitor

213537
Users Today : 8
Who's Online : 0
"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *