Domain Registration ID: DD9A736AA76EB45DBBFAF21E3264CDF2D-IN {Editor - Ashish Kumar Jain 9893228727}

चार दशक बाद भी संजय निकुंज में बदहाली भरपूर, पत्ता पत्ता कह रहा कब होगी दिक्कत दूर!

बदहाली पर आंसू बहा रहा संजय निकुंज…. विभाग के अधिकारियों की लापरवाही से संजय निकुंज बन रहा है खंडर…. बड़ी-बड़ी घास के अलावा नजर नहीं आ रहे पौधे….

आकिब खान हटा : अनेक सामाजिक संस्थाएं एवं पर्यावरण प्रेमी संस्थाओं द्वारा पौधरोपण कर पर्यावरण को संवारने का प्रयास किया जा रहा है, वहीं सरकारी विभागों के उद्यान एवं नर्सरी बदहाली के साये में हैं. दमोह नाका स्थित संजय निकुंज उद्यान इन दिनों बदहाली का शिकार है. आलम यह है कि निकुंज में दूर – दूर तक कहीं पौधे नजर नहीं आ रहे हैं. चारों तरफ घास फूस और झाड़ियां ही दिखाई दे रही है.

मनमानी से बेहाल हुआ संजय निकुंज

उच्च अधिकारियों की अनदेखी एवं स्थानीय अधिकारियों की नकारात्मक कार्यशैली के कारण संजय निकुंज अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है. वर्ष 1980 में संजय निकुंज की स्थापना की गई थी विभाग के लाखों रुपए खर्च होने के बाद भी आज तक निकुंज पूरी तरह से विकसित नहीं हो पा रहा है. रोपे गए पौधे तो नष्ट हो ही रहे हैं, बड़े पेड़ों की टहनियां भी पशु तोड़ रहे हैं. उदासीनता के चलते इस उद्यान के अंदर जगह-जगह गंदगी पसरी हुई है.


मॉडल नर्सरी महज सपना


विभाग भले ही संजय निकुंज नर्सरी को मॉडल नर्सरी के रूप में विकसित करने की योजना को मूर्तरूप देने की तैयारी कर रहा हो, लेकिन यह सपना पूरा होता नजर नहीं आ रहा है. अब निकुंज को सरक्षित बनाए रखना ही सबसे बड़ी चुनौती विभाग के लिए है. देखरेख के अभाव में निकुंज के पेड़ व पौधे नष्ट हो रहे हैं. इस नर्सरी एवं उद्यान में लगे फलदार पेड़ और पौधों की सुरक्षा एवं देखरेख के लिए मात्र एक माली और एक चौकीदार के भरोसे ही निकुंज है.

तो यह कहते हैं अधिकारी

संजय निकुंज मे अवलोकन करने जब तूफान टीवी की टीम पहुची तो संजय निकुंज अधीक्षक कृष्णा चौबे मीडिया के सवालों के जबाब न दे सके. अवलोकन में निकुंज मे सब कुछ बदहाल हालत में मिला. जगह जगह घास फूस और झाड़ियां नजर आई. जब इस संबंध में हटा एसडीएम राकेश मरकाम से बात कि तो उनका कहना था कि संबंधित अधिकारी के खिलाफ नोटिस जारी किया जाएगा. खामियां पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी.

Our Visitor

9 3 3 8 2 1
Users Today : 64
Total Users : 933821
Who's Online : 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: